हम हैं आपके साथ

हमसे फेसबुक पर जुड़ें

कृपया हिंदी में लिखने के लिए यहाँ लिखे.

आईये! हम अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी में टिप्पणी लिखकर भारत माता की शान बढ़ाये.अगर आपको हिंदी में विचार/टिप्पणी/लेख लिखने में परेशानी हो रही हो. तब नीचे दिए बॉक्स में रोमन लिपि में लिखकर स्पेस दें. फिर आपका वो शब्द हिंदी में बदल जाएगा. उदाहरण के तौर पर-tirthnkar mahavir लिखें और स्पेस दें आपका यह शब्द "तीर्थंकर महावीर" में बदल जायेगा. कृपया "रमेश कुमार निर्भीक" ब्लॉग पर विचार/टिप्पणी/लेख हिंदी में ही लिखें.

मंगलवार, जुलाई 19, 2011

क्या है हिंसा की परिभाषा ?

ज हिंसा का परिभाषा क्या व्यक्त करें. आज व्यक्ति का भौतिक वास्तुनों के मोह में फंसकर इतना निर्दयी हो गया है कि-कदम-कदम पर झूठ बोलना, धोखा देना, सच का गला घोट देना आदि जैसे अनैतिक कार्यों में लिप्त होकर अपनी आत्मा की आवाज को मारकर दूसरों को दुःख पहुँचाने की साजिश कर रहा है. आज का मनुष्य अपने दुःख में दुखी कम दूसरे के सुख में दुखी ज्यादा हैं. आज का मनुष्य अपने स्वार्थवश "इंसानियत" को अपने दिलों से बाहर निकाल कर फैक चुका है. दया, स्नेह और प्यार जैसे शब्द आज किताबों में बंद होकर रह गए है. अभी कुछ दिन पहले की बात हैं. एक छोटी सी बात पर चेन्नई में-वाइक से टक्कर होने पर एक चौराहे की लालबत्ती पर सारे आम एक व्यक्ति को जान से मार दिया गया था. वहाँ उसको कोई बचाने वाला नहीं आया या यह कहे चार आरोपियों को उस पर कोई दया नहीं आई. यह तो मात्र के घटना है. पूरे देश में ऐसी न जाने कितनी घटनाएँ होती हैं? 
 पिछले कुछ महीनों से चली आ रही जैन धर्म की तपस्या कहूँ या उपवास के दौरान मैंने जाना कि-मुझसे भी आने-अनजाने में कई बार हिंसा हुई है. जिसका पश्चाताप इन दिनों तपस्या करके कर भी रहा हूँ.
 नीचे दो नं. पर लिखा-झूठ बोलना आदि मुझे अपने पेशेगत बोलना या कहना पड़ा, क्योंकि जब मेरे थोड़े से झूठ बोल देने से किसी गरीब का भला हो रहा हो.तब ही मैंने झूठ बोला था या कठु वचन कहना. छह नं. पर लिखा-इन दिनों पत्नी द्वारा झूठे केसों में फँसा दिए जाने के कारण बहुत रोकर भी हिंसा की. आठ नं. पर लिखा-हर अनैतिक कार्य की अपने पेशेगत निंदा करके भी हिंसा की है, वैसे छबीस नं. पर लिखे अनुसार अपना फर्ज अदा ना करना भी हिंसा हैं. अपने फर्ज का कर्तव्य पूरा करने के उद्देश्य से मैंने अनेकों बार हिंसा की है. दस नं. पर लिखे अनुसार-मैंने अपनी अनेकों बार बढाई हाँककर भी हिंसा की. उसके पीछे मेरी "कथनी और करनी" में फर्क न होने के कारण लोगों में अच्छे संस्कारों का समावेश हो. इसलिए अपनी बढ़ाई भी अनेकों बार हांककर हिंसा की है.      
न्नीस नं. पर लिखे-अनुसार मैंने लगभग ३१ साल की उम्र तक अपनी कई इन्द्रियों पर काबू रखने के साथ ही ब्रह्मचर्य का पालन किया. उसके बाद संसारिक जीवन के दायित्व के चलते एक इंद्री को कामदेव के हवाले कर जरुरी हो गया था और अब पिछले तीन सालों से उसपर भी काबू किया हुआ है. मगर फिर अपनी अन्य(मोह, माया, क्रोध आदि) इन्द्रियों को काबू रखते हुए जीवन रूपी बेल को आगे बढ़ाता रहा. हाँ, उस दौरान कभी-कभी अपने पेशेगत सरकारी व गैर सरकारी अधिकारीयों पर उनकी कार्यशैली के कारण क्रोध भी आया और उस द्वारा माफ़ी मांग लेने और अपनी कार्यशैली में सुधार कर लिये जाने पर क्षमा भी कर दिया. कई पत्रकारों की तरह से हर महीने मंथली आदि लेने की कोशिश नहीं की या उसकी नौकरी छीने का प्रयास नहीं किया था. 
 गवान महावीर स्वामी के संदेश-"जियो और जीने दो" का सच्चे दिल से पालन करने का प्रयास.  बीस नं. पर लिखे-अनुसार दबे हुए कलह को उखाड़ना हिंसा है. यह भी मुझे मज़बूरीवश भविष्य में पत्नी द्वारा डाले फर्जी केसों में अपने वचाव और भ्रष्ट न्याय व्यवस्था में "सच " को बताकर हिंसा करनी होगी. इस हिंसा के पीछे भी का उद्देश्य यह होगा कि "सच" की जीत हो और अन्य किसी पीड़ित को ऐसी पीड़ा ना सहनी पड़े. दोस्तों, इसके अलावा मैंने कभी कोई हिंसा नहीं की है. शुभचिंतकों और आलोचकों मैंने तो अपनी आने-अनजाने में हुई "हिंसा" का वर्णन कर दिया है. 
गर मेरे द्वारा की हिंसा क्षमा योग्य हो तो क्षमा कर देना. जब तक इस दिल और दिमाग में अपने आने-अनजाने में हुए पापों का प्रश्चाताप पूरा नहीं होता है. तब तक मेरी तपस्या यूँ ही चलती रहेंगी.आपकी हिंसा का उपाय आप जानो.
किसी को मारना या कष्ट देना मात्र ही हिंसा नहीं है. हिंसा के असंख्य रूप हमारे जीवन में इस प्रकार घुल गए हैं कि उन्हें पहचाना भी कठिन हो गया है.हिंसा के सूक्ष्म रूपों को दिग्दर्शन प्रस्तुत प्रकरण में कराया गया है.
1. किसी जीव को सताना,  हिंसा है. 2. झूठ बोलना, कठु बोलना हिंसा है. 3. दंभ करना, धोखा देना हिंसा है. 4. किसी की चुगली करना हिंसा है. 5. किसी का बुरा चाहना हिंसा है. 6. दुःख होने पर रोना-पीटना हिंसा है. 7. सुख में अंहकार से अकडना हिंसा है. 8. किसी की निंदा या बुराई करना हिंसा है. 9.गाली देना हिंसा है. 10. अपनी बढ़ाई हाँकना हिंसा है. 11. किसी पर कलंक लगाना हिंसा है. 12. किसी का भद्दा मजाक करना हिंसा है. 13. बिना किसी वजय किसी पर क्रोध करना हिंसा है. 14. किसी पर अन्याय होते देखकर खुश होना हिंसा है. 15. शक्ति होने पर भी अन्याय को न रोकना हिंसा है. 16. आलस्य और प्रमाद में निष्क्रिय पड़े रहना हिंसा है. 17. अवसर आने पर भी सत्कर्म से जी चुराना हिंसा है. 18. बिना बाँटे अकेले खाना हिंसा है. 19. इन्द्रियों का गुलाम रहना हिंसा है.  20. दबे हुए कलह को उखाड़ना हिंसा है. 21. किसी की गुप्त बात को प्रकट करना हिंसा है. 22. किसी को नीच-अछूत समझना हिंसा है.  23. शक्ति होने हुए भी सेवा न करना हिंसा है. 24. बड़ों की विनय-भक्ति न करना हिंसा है. 25. छोटों से स्नेह, सद्भाव न रखना हिंसा है. 26. ठीक समय पर अपना फर्ज अदा न करना हिंसा है. 27. सच्ची बात को किसी बुरे संकल्प से छिपाना हिंसा है. "राष्ट्र" संत-उपाध्याय कवि श्री अमर मुनि जी महाराज द्वारा लिखित "जैनत्व की झाँकी" से साभार
 मैं बहुत ज्यादा हिंसक हूँ 
 नोट:-अपने  पेशेगत(पत्रकारिता) एक-दो दिन में नीचे लिखे लिंकों पर भी हिंसा की है. पढ़ने के इच्छुक हो तो जरुर पढ़ें.

2 टिप्‍पणियां:

  1. रमेश जी,
    हिंसा vishay par आपके vicharon से yukt yah aalekh sarahniy है.आपकी yogyata hamare ब्लॉग जगत के लिए एक स्तम्भ के सामान है और हम सभी आपकी दिल से कद्र करते हैं आप जिन वजहों से kasht झेल रहे हैं हो सकता है की विधि का विधान हो किन्तु आप खरे सोने के सामान इन विपदाओं से बहार निकलेंगे यही हमारी शुभकामना है आप कहीं भी हमारी किसी टिपण्णी को अन्यथा मत लें क्योंकि हम कहीं भी आपके खिलाफ में नहीं हैं हम यदि कहिओं कुछ कह भी रहे हैं तो उसकी वजह मात्र इतनी है की हम उस स्थान को ऐसी पोस्ट के काबिल नहीं समझ रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. रमेश जी,

    हिंसा का तो विस्तार बहुत दूर तक है। आपके गिनाए में से शायद धरती का हर आदमी हिसक है लेकिन हिंसा कभी कभी मजबूरी बनकर आती है जैसे आपके देश पर आक्रमण हो तो क्या करें? फिर भी हिंसा पर आपका लिखा हिंसा को व्यक्त कर तो देता ही है।

    उत्तर देंहटाएं

अपने बहूमूल्य सुझाव व शिकायतें अवश्य भेजकर मेरा मार्गदर्शन करें. आप हमारी या हमारे ब्लोगों की आलोचनात्मक टिप्पणी करके हमारा मार्गदर्शन करें और हम आपकी आलोचनात्मक टिप्पणी का दिल की गहराईयों से स्वागत करने के साथ ही प्रकाशित करने का आपसे वादा करते हैं. आपको अपने विचारों की अभिव्यक्ति की पूरी स्वतंत्रता है. लेकिन आप सभी पाठकों और दोस्तों से हमारी विनम्र अनुरोध के साथ ही इच्छा हैं कि-आप अपनी टिप्पणियों में गुप्त अंगों का नाम लेते हुए और अपशब्दों का प्रयोग करते हुए टिप्पणी ना करें. मैं ऐसी टिप्पणियों को प्रकाशित नहीं करूँगा. आप स्वस्थ मानसिकता का परिचय देते हुए तर्क-वितर्क करते हुए हिंदी में टिप्पणी करें.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

मार्मिक अपील-सिर्फ एक फ़ोन की !

मैं इतना बड़ा पत्रकार तो नहीं हूँ मगर 15 साल की पत्रकारिता में मेरी ईमानदारी ही मेरी पूंजी है.आज ईमानदारी की सजा भी भुगत रहा हूँ.पैसों के पीछे भागती दुनिया में अब तक कलम का कोई सच्चा सिपाही नहीं मिला है.अगर संभव हो तो मेरा केस ईमानदारी से इंसानियत के नाते पढ़कर मेरी कोई मदद करें.पत्रकारों, वकीलों,पुलिस अधिकारीयों और जजों के रूखे व्यवहार से बहुत निराश हूँ.मेरे पास चाँदी के सिक्के नहीं है.मैंने कभी मात्र कागज के चंद टुकड़ों के लिए अपना ईमान व ज़मीर का सौदा नहीं किया.पत्रकारिता का एक अच्छा उद्देश्य था.15 साल की पत्रकारिता में ईमानदारी पर कभी कोई अंगुली नहीं उठी.लेकिन जब कोई अंगुली उठी तो दूषित मानसिकता वाली पत्नी ने उठाई.हमारे देश में महिलाओं के हितों बनाये कानून के दुरपयोग ने मुझे बिलकुल तोड़ दिया है.अब चारों से निराश हो चूका हूँ.आत्महत्या के सिवाए कोई चारा नजर नहीं आता है.प्लीज अगर कोई मदद कर सकते है तो जरुर करने की कोशिश करें...........आपका अहसानमंद रहूँगा. फाँसी का फंदा तैयार है, बस मौत का समय नहीं आया है. तलाश है कलम के सच्चे सिपाहियों की और ईमानदार सरकारी अधिकारीयों (जिनमें इंसानियत बची हो) की. विचार कीजियेगा:मृत पत्रकार पर तो कोई भी लेखनी चला सकता है.उसकी याद में या इंसाफ की पुकार के लिए कैंडल मार्च निकाल सकता है.घड़ियाली आंसू कोई भी बहा सकता है.क्या हमने कभी किसी जीवित पत्रकार की मदद की है,जब वो बगैर कसूर किये ही मुसीबत में हों?क्या तब भी हम पैसे लेकर ही अपने समाचार पत्र में खबर प्रकाशित करेंगे?अगर आपने अपना ज़मीर व ईमान नहीं बेचा हो, कलम को कोठे की वेश्या नहीं बनाया हो,कलम के उद्देश्य से वाफिक है और कलम से एक जान बचाने का पुण्य करना हो.तब आप इंसानियत के नाते बिंदापुर थानाध्यक्ष-ऋषिदेव(अब कार्यभार अतिरिक्त थानाध्यक्ष प्यारेलाल:09650254531) व सबइंस्पेक्टर-जितेद्र:9868921169 से मेरी शिकायत का डायरी नं.LC-2399/SHO-BP/दिनांक14-09-2010 और LC-2400/SHO-BP/दिनांक14-09-2010 आदि का जिक्र करते हुए केस की प्रगति की जानकारी हेतु एक फ़ोन जरुर कर दें.किसी प्रकार की अतिरिक्त जानकारी हेतु मुझे ईमेल या फ़ोन करें.धन्यबाद! आपका अपना रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा"

क्या आप कॉमनवेल्थ खेलों की वजह से अपने कर्त्यवों को पूरा नहीं करेंगे? कॉमनवेल्थ खेलों की वजह से अधिकारियों को स्टेडियम जाना पड़ता है और थाने में सी.डी सुनने की सुविधा नहीं हैं तो क्या FIR दर्ज नहीं होगी? एक शिकायत पर जांच करने में कितना समय लगता है/लगेगा? चौबीस दिन होने के बाद भी जांच नहीं हुई तो कितने दिन बाद जांच होगी?



यह हमारी नवीनतम पोस्ट है: